Pichai pledges $25mn to empower women including in India | दुनियाभर की महिलाओं को आर्थिक तौर पर मजबूत बनाने 183 करोड़ रुपए देगी, ग्रामीण महिलाओं पर ज्यादा फोकस

0
322

[ad_1]

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली19 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दुनिया के साथ भारतीय महिलाओं के आर्थिक तौर पर मजबूत बनाने के लिए सुंदर पिचाई ने 25 मिलियन डॉलर (करीब 183 करोड़ रुपए) देने की घोषणा की है। ये पैसा भारत और दुनियाभर में मौजूद नॉन-प्रॉफिट्स और सोशल एंटरप्राइजेस को अनुदान में दिया जाएगा। भारतीय मूल के पिचाई गूगल और अल्फाबेट के सीईओ हैं।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर पिचाई ने कहा कि भारत के गांवों की 10 लाख महिलाओं को गूगल इंटरनेट साथी प्रोग्राम में बिजनेस ट्यूटोरियल, टूल्स और मेंबरशिप के माध्यम से मदद की जाएगी।

महिलाओं का फ्यूचर बनाने का मौका: पिचाई
पिचाई ने ‘गूगल फॉर इंडिया’ वर्चुअल इवेंट के दौरान कहा, “महामारी के दौरान महिलाओं की नौकरी खोने की संभावना लगभग दोगुनी हो चुकी है। करीब 2 करोड़ लड़कियों के फिर से स्कूल में वापस नहीं आने का खतरा है। हमारे पास इनका भविष्य बनाने का मौका है।”

कृषि श्रमिकों के लिए 3.65 करोड़ रुपए
गूगल ने डिजिटल और वित्तीय साक्षरता के साथ 1 लाख महिला कृषि श्रमिकों का समर्थन करने के लिए नासकॉम फाउंडेशन को 500,000 डॉलर (करीब 3.65 करोड़ रुपए) का अनुदान देने की भी घोषणा की है।

गूगल और टाटा साथ काम करेंगे
वर्चुअल इवेंट में ग्रामीण भारत में महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए टाटा ट्रस्ट के साथ गूगल के संयुक्त प्रयास को पूरा करने की बात कही गई।
लोगों को डिजिटल साक्षरता बनाने के लिए 2015 में इंटरनेट साथी प्रोग्राम लॉन्च किया गया था।

टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा कि ग्रामीण महिलाओं के लाभ के लिए आज की तकनीक और शायद कल की तकनीक को आगे लाना महान कदम है। समय के साथ हम ये सुनिश्चित करेंगे कि इंटरनेट का सही मूल्य सामने आ सके।

3 करोड़ ग्रामीण महिलाओं को फायदा मिला
6 साल में इंटरनेट साथी प्रोग्राम ने 80,000 से अधिक ‘इंटरनेट साथियों’ द्वारा पूरे भारत में 3 करोड़ से अधिक महिलाओं को प्रशिक्षण देकर लाभ पहुंचाया है।

विमेन विल प्लेटफॉर्म लॉन्च किया
गूगल ने कहा कि उसने ‘विमेन विल’ वेब प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। ये ग्रामीण महिला उद्यमियों के लिए कम्युनिटी सपोर्ट, मेंटरशिप और एक्सेलेरेटर प्रोग्राम में मदद करेगा। ये अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है। इसे खासतौर पर उन महिलाओं के लिए तैयार किया गया है जो आन्ट्रप्रनर्शिप करना चाहती हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here